असफल व्यक्ति की सफल कहानी

अक्सर हम देखते हैं की यदि कोई व्यक्ति किसी कार्य में या अपने जीवन में असफलता का सामना करता है तो वह व्यक्ति अपने को शंका से देखने लगता है उसमें उतना साहस ही नहीं बचता की वो अपनी असफलता से कुछ सीखे और गलत कदम उठा लेता है।

आज मै जिस व्यक्ति के व्यक्तित्व से परिचय करवाने जा रहा हूँ वो व्यक्ति किसी परिचय का मोहताज नहीं है । इस व्यक्ति ने अपने कार्यों से नए कीर्तिमान स्थापित किये हैं । नाम है इनका सिलू नायक

silu nayak imageइनकी कहानी बड़ी ही दिलचस्प है, ओडिशा के अराखुड़ा में पैदा सिलू नायक की बचपन से ही हसरत थी कि वह वरदी पहन मातृभूमि की सेवा करें और अपने समाज के काम आएं। देश के लोगों में सैनिकों के प्रति जो सम्मान भाव है, वह नायक को प्रेरित करता रहा और वह उस सेवा में जाने के लिए खुद को शारीरिक-मानसिक रूप से तैयार करने में जुट गए।

साल 2016 में वह वक्त भी आया, जिसका उन्हें वर्षों से इंतजार था। गांव में ही ओड़िशा पुलिस का भर्ती शिविरलगने वाला था। नायक के लिए यह सुनहरा मौका था। वह अपनी तरफ से कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते थे। उन्होंने चयन प्रक्रिया से जुड़ी सारी शारीरिक गतिविधियां भी बढ़ा दीं।

लेकिन नियति ने तो कुछ और ही चुन रखा था सिलू नायक के लिए एक सेंटीमीटर के फासले ने नायक से वर्षों के सपने छीन लिए। उनकी ऊंचाई 168 सेंटीमीटर थी, जबकि चयन की कसौटी 169 सेंटीमीटर की थी। नायक भर्ती के अयोग्य करार दिए गए। 

हालांकि, उन्हें ओडिशा इंडस्ट्रीयल सिक्युरिटी फोर्सेज (ओआईएसएफ) में नौकरी का प्रस्ताव दिया गया, लेकिन 7,200 रुपये मासिक पगार में वह अपनी और समाज की क्या भलाई कर पाते, इसलिए उन्होंने विनम्रतापूर्वक उस प्रस्ताव को ठुकरा दिया।

पिछले पांच साल की कोशिश नाकाम हो गई। थी। उनके सारे सपने बिखर चुके थे। इस निराशा से उबरने में नायक को लगभग तीन महीने लग गए। मन स्थिर हुआ, तो सोचा कि मातृभूमि और समाज की सेवा के और भी तो रास्ते हैं, क्यों न अब उन पर गौर किया जाए। 

नायक को लगा कि इन वर्षों में जो कौशल उन्होंने सीखा है, उसके जरिए ही वह कुछ कर सकते हैं। फिर उन्होंने तय किया कि वह इलाके के उन लड़कों का मार्गदर्शन करेंगे, जो सेना या सुरक्षाबलों में प्रवेश की तैयारी कर रहे हैं।

नायक ने गांव के कुछ लड़कों के साथ शुरुआत की। लेकिन जल्द ही उन्हें यह एहसास हो गया कि यह काम आसान नहीं है। जैसा की सभी के साथ होता है जब आप कुछ अच्छा करना चाहते है तो सबसे पहले आपके आसपास के लोग ही रुकावट पैदा करते है|

रुकावट पैदा करने का कारण चाहें जो हो दबंगई हो या ईर्ष्या, इस समस्या से सामना हर उस व्यक्ति का होता है जो जीवन में कुछ बेहतर करना चाहता है|

नायक के साथ भी ऐसा हुआ, गांव के ही कुछ विघ्न संतोषियों ने उनकी इस कोशिश को पैसे कमाने की मंशा से जोड़ना शुरू कर दिया। वे बच्चों को भड़काते कि नायक, तुम लोगों से बाद में इसके पैसे वसूलेगा।

कुछ लोग इसे संदिग्ध गतिविधि तक से जोड़ देते। नायक को दुख होता, क्योंकि वह तो अपनी देशभक्ति इन नौजवानों के जरिए जीना चाहते थे और समाज सेवा के तौर पर यह सब कर रहे थे। 

आज भी उनका न कोई एनजीओ है, न उन्होंने किसी सरकारी मदद के लिए आवेदन किया और न ही वह छात्रों से कुछ लेते हैं। बहरहाल, नायक यह जानते थे कि उनके इरादों में कोई खोट नहीं है, तो दुष्प्रचार भी खुद-ब-खुद दम तोड़ देंगे। वह अपने मिशन में जुटे रहे।

शुरू-शुरू में नौजवानों का भी भरोसा बहुत नहीं जमता था। चंद रोज में ही वे नायक का साथ छोड़ देते। उन्हें प्रेरित करने के लिए नायक को काफी मेहनत करनी पड़ी। वह छात्रों से यही कहते कि फर्क महसूस करने के लिए कम से कम 20 दिन की ट्रेनिंग तो लो।

नायक की मेहनत रंग ले आई। गांव के जिन बच्चों के साथ उन्होंने यह नया सफर शुरू किया था, उनमें से चार का चयन रक्षा क्षेत्र के लिए हुआ।

इसके साथ ही कटाक्ष और आलोचनाओं का गुबार बैठ गया। उनके पास पड़ोसी गांवों से भी बड़ी संख्या में युवा आने शुरू हो गए। जाहिर है, वे सब आर्थिक रूप से कमजोर घरों के बच्चे होते थे। उनमें जिंदगी को एक मकसद देने की तड़प तो थी, मगर उनके पास रास्ता दिखाने वाला कोई नायक न था। 

अक्सर वे हताशा में बिखर जाते और राह भटक जाते थे। अब सिलू नायक उनके पास थे। नायक इन युवकों को सिर्फ शारीरिक प्रशिक्षण नहीं देते थे, बल्कि जिन बच्चों को गणित और ‘करेंट अफेयर्स’ में परेशानी आती थी, उनकी आसानी के लिए इन्होंने एक पाठ्यक्रम तैयार किया।

उनकी ट्रेनिंग का पहला सत्र सुबह 5.30 बजे से शुरू होता है, जो दो घंटे का होता है और यह शारीरिक प्रशिक्षण से जुड़ा हुआ है। शाम के सत्र में वह लिखित परीक्षा, इंटरव्यू और व्यक्तित्व के विभिन्न पहलुओं की बारीकियां समझाते हैं।

उम्र के 29वें पड़ाव पर खड़े नायक ने अब तक 300 से अधिक बच्चों को प्रशिक्षण दिया और उनमें से 70 कामयाब भी हो चुके हैं। करीब 20 तो देश की सर्वोच्च सेनाओं- थल सेना, वायु सेना और नौसेना के लिए चयनित हुए हैं, तो बाकी बीएसएफ, सीआरपीएफ व अन्य अर्द्ध सैन्य बलों में चुने गए हैं।

सिलू नायक का घरपिता की खेती और खुद की पार्ट टाइम ड्राइवरी से चलता है। उन्हें अब कोई मलाल नहीं कि वह स्वयं चुने न जा सके। उन्होंने मातृभूमि की सेवा के लिए कई नायक दे दिए हैं। देश गदगद है ऐसे सपूत पर तभी तो प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- ‘आइए हम सब मिलकर नायक सर को शुभकामना दें कि वह देश के लिए और अधिक नायकों को तैयार करें।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मन की बात कार्यक्रम में ‘नायक सर’ को सराहा, तो पूरे देश में सिलू नायक मशहूर हो गए। सैकड़ों नौजवानों और उनके हजारों परिजनों की निगाह में सम्मान तो वह पहले ही कमा चुके थे।

समाज को समृद्ध करने हेतू इस पोस्ट को शेयर करें अपने मित्रों को।

Leave a Comment