उत्तरायण का सूर्य किन किन बीमारियो से दूर रखता है ? 

उत्तरायण का सूर्य किन किन बीमारियो से दूर रखता है ? 

हिंदू पंचांग के अनुसार जब सूर्य मकर से मिथुन राशि तक भ्रमण करता है, तो इस अंतराल को उत्तरायण कहते हैं। सूर्य के उत्तरायण की यह अवधि 6 माह की होती है। वहीं जब सूर्य कर्क राशि से धनु राशि तक भ्रमण करता है तब इस समय को दक्षिणायन कहते हैं। दक्षिणायन को नकारात्मकता का और उत्तरायण को सकारात्मकता का प्रतीक माना जाता है। मकर संक्रांति के दिन सुर्य देव दक्षिणायन ये उत्तरायण हो रहे हैं । 

हमारी सेहत और शारीरिक विकास मे सुर्य के प्रकाश की अहम भूमिका है । सुर्य स्नान एक तरह का योग ही है । सूर्य स्नान सेहत के लिए काफी फायदेमंद है । मकर संक्रांति के दिन सुर्य हमारी प्रथ्वी के नजदीक आने शुरू हो जाते हैं । सर्दी कम होने लगती है और गर्मी शुरू हो जाती है 

 इस समय की धूप हमारे स्वास्थ्य के लिये काफी लाभदायक होती हैं । इस धूप से हमे किन किन बीमारियों मे फायदा हो सकता है के बारे में आज हम चर्चा करेंगे । कई स्वास्थ्य विशेषज्ञों से बात करने के बात हमे पता चला है कि :

  1. विटामिन -डी का हमारे शरीर मे उत्पादन शुरू हो जाता है जो हमारे शरीर मे दांतो व हड्डियों को मजबूती देता है । हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाता है । डिमेंशिया और सांस संबंधी बीमारियों से बचाता है । 
  2. कैंसर से लड़ने की शक्ति प्रदान करता है । विटामिन डी की कमी के कारण कैंसर की संभावना बढ़ जाती है, अतः यह उत्तरायण की धूप जब विटामिन डी का उत्पादन बढ़ाती है तो स्वाभाविक है कि कैंसर को रोकने मे सहायता करती है । 
  3. प्राक्रतिक रोग निरोधक क्षमता बुस्ट हो जाती है । शरीर मे सफेद रक्त कोशिकाओ का पर्याप्त निर्माण होता है ।
  4. स्ट्रेस हार्मोन के स्तर को नियंत्रित करती है । जब शरीर मे इस हार्मोन का स्तर बढ़ जाता है तो शारीरिक व मानसिक स्वास्थ्य समस्याये होने लगती है । ब्लड शुगर और मेटाबोलिज्म अनियंत्रित हो सकता है । वजन बढ़ सकता है ।
  5. नींद नही आने की समस्या दुर हो सकती है । इस धुप से शरीर मे मेलाटोनिन हार्मोन बनाना शुरू हो जाता है । मेलाटोनिन हार्मोन नींद की गुणवत्ता को बेहतर बनाता है ।
  6. उच्च रक्तचाप कम हो सकता है । जिससे दिल की बीमारियों के खतरे भी कम हो जाते हैं 
  7. अस्थमा से बचाव होता है । अस्थमा का मुख्य कारण शरीर मे विटामिन डी की कमी का होना माना गया है । जब उत्तरायण धुप विटामिन डी का उत्पादन बढ़ाता है तो स्वाभाविक रूप से अस्थमा से भी बचायेगी ।
  8. अवसाद व मानसिक रोगो से बचाव देती है । 

इसीलिये उत्तरायण की धुप हम सबको अवश्य सेकनी चाहिए । जो हमने उपर बताया कि मुख्य रूप से उत्तरायण की धुप से शरीर मे विटामिन डी का उत्पादन बढ़ता है जो कई रोगो से हमे बचाता है ।

 

Leave a Reply

© 2023 Bigfinder - WordPress Theme by WPEnjoy